Aakhon ki Roshni Kaise Badhaye | आँखों की रौशनी बढाने के उपाय

Aakhon ki Roshni Kaise Badhaye | आँखों की रौशनी बढाने के उपाय

वर्तमान जीवनशैली और पर्यावरण में कईं चीजें ऐसी हैं जो आँखों की रोशनी को कमजोर बना रही है। जिसको देखो वो नज़र का चश्मा लगाए घूम रहा है जैसे मानो वो जीवन में सबसे जरुरी चीज हो गयी हो। इसलिए आज के इस लेख में मैं आपको आँखों की रौशनी कैसे बढ़ाये (Aakhon ki Roshni Kaise Badhaye)। तो आप भी अगर आँखों की रौशनी बढाने के उपाय (How To Improve Eyesight In Hindi) के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़िए।

एक ज़माना था जब 80-90 साल के वृद्धों की आँखों भी सही सलामत रहती थी। उन्हें कभी ये सोचने की जरुरत ही नहीं पड़ती थी की अपनी नज़र को तेज कैसे करें और ना ही उस समय इतने Doctors और इतनी टेक्नोलॉजी हुआ करती थी। अगर किसी को आँखों से जुडी कोई समस्या होती थी या Eyesight Weak होने की Problem होती थी तो घरेलु नुस्खों से ही उसका इलाज किया जाता था लेकिन आजकल ऐसा नहीं है। आजकल बड़ों को तो छोड़िये हर 10 बच्चों में से कम से कम 5-6 को चश्मा लगाना पड़ रहा है।

ऐसे में हर कोई ये सोचने पर मज़बूर हैं की आँखों की रौशनी कैसे बढ़ाये क्योंकि ये बच्चों के भविष्य का सवाल है। खराब जीवनशैली और पोषक तत्वों से रहित आहार का सेवन आँखों की रोशनी को कमजोर बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं। अगर आप पौष्टिक भोजन नहीं लेते तो आपकी नज़र कमजोर हो सकती है। इसलिए आपको पता होना चाहिए की आँखों की रौशनी बढाने के लिए क्या खाना चाहिए या आँखों की रौशनी बढाने के लिए क्या खाये।

आज की जीवनशैली में हम Computer और Smartphone का इस्तेमाल करते हैं जिसका सबसे गलत असर कम उम्र के बच्चों या युवाओं पर सबसे ज्यादा पड़ रहा है क्योंकि यही लोग इनका सबसे ज्यादा Use करते हैं। इसके अलावा बड़े लोगों को Computer पर घंटों काम करना पड़ता है या वो घंटों घंटों Smartphone से चिपके रहते हैं। आँखों की रौशनी कम होने का सबसे बड़ा कारण यही है।

अपनी नज़र को तेज बनाये रखने के लिए अच्छी Diet लेना जरूरी है लेकिन ज्यादातर बच्चे ऐसा नहीं करते। वो लोग डिब्बाबंद और packed food का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करते हैं जिससे उनका पेट तो भरता है लेकिन Nutrition के नाम पर इनमें कुछ नहीं होता। इसलिए आजकल 4-5 साल के बच्चे को भी चश्मा पहनना पड़ता है। इसके अलावा भी आँखों की रौशनी कम होने की कई वजह होती हैं तो चलिए जानते हैं वो कौन कौन से कारण है जिनके चलते समय से पहले ही Eyesight Weak हो जाती है।

आँखों की रौशनी कम होने के कारण | आँखों की रोशनी कम क्यों होती है? (Causes of Weak Eye Sight)

उम्र बढ़ने के साथ हमारी आँखों में क्षयकारी (Degenerative) बदलाव आने शुरू हो जाते हैं जिसके कारण धीरे-धीरे दृष्टि भी कमजोर होने लगती है। लेकिन अगर भोजन में पोषक तत्वों की कमी हो एवं अनुचित जीवनशैली का पालन किया जाए तो यह बदलाव समय से पहले ही आने लगते हैं।

इसके अलावा भोजन में जरूरी पोषक तत्वों की कमी से आँखों की रोशनी में नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। विटामिन-सी, विटामिन-ए और विटामिन-ई, जिंक, ल्यूटिन, जियाजैक्थीन और ओमेगा-3 फैटी एसिड हमारी आँखों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते है। यदि लम्बे समय तक आहार में इनकी कमी पाई जाती है तो कमजोर दृष्टि के अलावा आँखों से संबंधित क्षयकारी बीमारियों की भी आशंका बनी रहती है जैसे- कैटारैक्ट, उम्र संबंधित मैक्यूलर डिजेरेशन आदि।

अगर आप ऐसा खाना नहीं खाते जिससे आपको पर्याप्त मात्रा में Vitamins और Minerals मिल जाएँ तो आपकी नज़र कमजोर होती चली जाती है। आजकल Smartphone का बहुत ज्यादा Use हो रहा है जो Weak Eyesight का सबसे बड़ा कारण है। आजकल क्या बच्चे और क्या बड़े सब इनसे चिपके रहते हैं।

इसके अलावा लगातार बहुत ज्यादा तनाव में रहने से आँखों की रौशनी पर प्रभाव पड़ता है। Stress के इस दौर में क्या बच्चे और क्या बड़े सब तनाव में जीने को मजबूर हैं। यही सब चीजें नज़र कमजोर होने के कुछ कारण हैं जिनके चलते बहुत ही कम उम्र में आजकल चश्मा लग जाता है। इसलिए आँखों की रौशनी बढाने के उपचार करना जरूरी है।

कम दिखाई देने के अलावा और भी लक्षण होते हैं जो कमज़ोर नज़र का संकेत देते हैं, तो आइये अब उन संकेतों के बारे में जानते हैं –

आँखों की रोशनी कम होने के लक्षण | Symptoms of Weak Eye Sight

  • दूर की वस्तुएँ देखने में असमर्थता
  • कम रोशनी तथा रात में धुंधला दिखाई देना
  • आँखों में दर्द होना
  • आँखों से पानी निकलना
  • आँखों में सूजन या लालिमा होना
  • पढ़ते समय बार-बार सिर दर्द की शिकायत रहना
  • पढ़ते समय धुंधला दिखाई देना तथा सही प्रकार से न पढ़ पाना
  • अंधेरे से एकदम रोशनी में जाने के बाद देखने में परेशानी होना
  • ज्यादा तेज रोशनी में रंग-बिरंगे रोशनी दिखाई देना इत्यादि।

अब जानते हैं आँखों की रौशनी कैसे बढ़ा सकते हैं और आँखों की रौशनी बढाने के लिए क्या खाए। इसके साथ हम जानेंगे घरेलू उपायों के बारे में जिनके द्वारा हम आँखों की रौशनी बढ़ा सकते हैं (Home Remedies for Eye sight)

 

आँखों की रौशनी बढाने के उपाय – आँखों की रौशनी कैसे बढ़ाये (Prevention Tips to improve Eyesight)

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए | How to Improve Eye Sight

आँखों को नुकसान ना पहुँचे इसलिए हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे की :-

  • आँखों को दिन में दो बार ठण्डे पानी से धोना चाहिए।
  • पढ़ते समय रोशनी का विशेष ध्यान रखना चाहिए। बहुत हल्की रोशनी में पढ़ने या लिखने से आँखों पर जोर पड़ता है।
  • धूल; प्रदूषण एवं तेज धूप से आँखों को बचाना चाहिए। तेज धूप में जाते समय आँखों पर अच्छी गुणवत्ता वाले चश्मों का प्रयोग करना चाहिए क्योंकि सूर्य की पराबैंगनी किरणें (UV rays) आँखों में क्षयकारी समस्याओं को उत्पन्न करती है।
  • बहुत देर तक लगातार पढ़ने या कम्प्यूटर पर काम करने के कारण आँखों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए कुछ देर के अंतराल में आँखों को बंद कर के आराम देना चाहिए।
  • आँखों की ज्यादातर बीमारियाँ गन्दगी के कारण होती हैं। ऐसी स्थिति में संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है जिसकी वजह से आपकी नज़र कमजोर हो सकती है। अगर आप जानना चाहते हैं की आँखों की रौशनी तेज कैसे करें तो इस बात पर ध्यान दें और हमेशा अपने आँखों को साफ रखें।
  • Eyesight Increase करने से लिए Vitamins और Minerals बहुत जरूरी चीज़ हैं। जिस प्रकार Muscles बनाने के लिए Protein चाहिए उसी तरह आँखों की रौशनी को अच्छा बनाये रखने के लिए Vitamins और Minerals की जरुरत होती है। खासकर Vitamin A, C और E तथा Minerals में Zink Eyesight बढाने के लिए बहुत जरूरी हैं।
  • अगर आप Eyesight Improve करने के तरीके खोज रहे हैं तो बिना किसी से पूछे आज से ही व्यायाम को अपने जीवन का हिस्सा बना लें। व्यायाम करने से रक्त परिसंचरण सही से होता है और व्यायाम करने के कारण Nutrition का Distribution शरीर में Proper तरीके से होता है जिससे आँखों को पोषण मिलता है।
  • सुबह के समय में टहलना हमेशा फायदेमंद माना जाता रहा है। लेकिन अगर आप हर रोज 15 मिनट सुबह के समय में नंगे पैर हरी घास पर चलेंगे तो इससे आपको आश्चर्यजनक परिणाम देखने को मिलेगा।
  • आँखों की रौशनी बढाने के उपाय करना चाहते हैं तो सबसे पहले हरी सब्जियों का सेवन बढ़ाएं। अगर आपका Eyesight Weak है तो सप्ताह में कम से कम 4 दिन हरी सब्जी का सेवन जरूर करें। खासकर हरी पत्तेदार सब्जीयां इस रोग में काफी ज्यादा फायदेमंद होता है। पालक, मेथी, मटर, लौकी, पत्तागोभी, ब्रोक्कोली, करेला, मूली के पत्ते और सरसों के साग का प्रयोग आपकी नज़र तेज करने में आपकी मदद करेंगे। क्योंकि इनसे आपको वो सभी जरूरी पौषक तत्व मिलेंगे जो आँखों की रौशनी बढाने में सहायक हैं।
  • उन लोगों की आँखों की रौशनी भी कम पायी जाती है जिन्हें Diabetes या Blood Pressure जैसा कोई रोग होता है। ये बीमारियाँ आपके Eyesight को प्रभावित करती ही हैं। ऐसे में पहले इनका इलाज लेना जरूरी है। इन बीमारियों के चलते आँखों की शिराओं तक रक्त पहुचने में दिक्कत होती है या फिर रक्त के ज्यादा दबाव के कारण ज्यादा रक्त पहुँचता है। ये दोनों ही स्थितियां आँखों के लिए ठीक नहीं होती। इसलिए इस प्रकार के रोगों के लिए अपना Check Up जरूर करवाएं।
  • हमारी आँखें हमारे शरीर का एक बहुत ही संवेदनशील अंग है जो ज्यादा Pressure बर्दाश्त नहीं कर सकती है। अगर आप लगातार महीनों सालों तक Pressure डालते रहे हैं तो आपका Eyesight जरूर Weak हुआ होगा। अगर आप सोचते रहते हैं की आँखों की रौशनी कैसे बढ़ाये तो आज से ही आँखों को पर्याप्त आराम देना शुरू कर दें। अपने खाली समय में Mobile से चिपके रहने के बजाय अपने पलकों को मूँद कर लेट जाएँ। ठीक इसी तरह रात को भी पूरी नींद लेना आवश्यक है।
  • दिन भर नहीं तो कम से कम रात को Smartphone का Use ना करें।
  • हरी पत्तेदार सब्जियाँ एवं दालों का सेवन करें।
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड्स का सेवन आँखों के लिए बेहद जरूरी होता है। इसलिए अलसी के बीजों का सेवन करें।
  • शकरकंद (Sweet potato) को भी अपने आहार में शामिल करें। यह बीटा कैरोटिन और विटामिन- ई का अच्छा स्रोत होता है।
  • नट्स में अच्छी मात्रा में विटामिन ई पाया जाता है जो आँखों को उम्र बढ़ने के साथ होने वाली क्षयकारी बीमारियों से बचाता है इसलिए नट्स का सेवन करें, जैसे- अखरोट, बादाम, पिस्ता, मूंगफली आदि।
  • इसके अलावा आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए आँखों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पोषक तत्वों से युक्त आहार लेना चाहिए जिसमें आवश्यक विटामिन्स और मिनरल्स हो। विटामिन सी, विटामिन ए और बीटा कैरोटिन से युक्त आहार का सेवन करें, जैसे- गाजर, सभी खट्टे फल आदि। विटामिन-ए के लिए गेहूँ से बने उत्पाद तथा नट्स का सेवन करें।

post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.