ये 6 संकेत बताते हैं कि भावनात्मक रूप से मैच्योर नहीं हैं आप, जानें इनके बारे में

Main-emotional-health

ये 6 संकेत बताते हैं कि भावनात्मक रूप से मैच्योर नहीं हैं आप, जानें इनके बारे में

अगर आप इमोशनली मैच्योर नहीं हैं, तो आपके लिए कई चीजें मुश्किल हो सकती हैं। जानें इमोशनली इम्मैच्योर होने के कुछ मुख्य संकेत। Signs of Emotional Immaturity: हम अपनी जिंदगी में रोजाना न जाने कितने लोगों से मिलते हैं। कई लोगों से मिलकर लगता है कि इनमें अपनी उम्र से भी ज्यादा मैच्योरिटी है। वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपनी उम्र के मुताबिक व्यवहार नहीं करते। बिना सोचे-समझें कैसे भी रिएक्ट कर देते हैं और अपने इमोशंस पर कंट्रोल नहीं कर पाते हैं। इस तरह से लोगों को इमोशनली इम्मैच्योर व्यक्ति कहा जाता है। ऐसे में व्यक्ति को पता नहीं होता कि उसे अपनी भावनाओं पर कैसे कंट्रोल करना है। इसके अलावा कई ऐसे संकेत भी होते हैं जिनसे व्यक्ति के इमोशनली मैच्योर न होने का पता चलता है।

जानें भावनात्मक रूप से मैच्योर न होने के संकेत- Signs of Emotional Immaturity

हर मुश्किल को अवॉइड करना

जो लोग भावनात्मक रूप से इम्मैच्योर होते हैं उनके लिए किसी भी स्थिति का सामना करना काफी मुश्किल हो जाता है। वो हर स्थिति से भागने की कोशिश करते हैं। अगर कोई व्यक्ति इमोशनली इम्मैच्योर है, तो वो जरूरी होने पर भी स्थिति अवॉइड करने की कोशिश करेगा।

अटेंशन की डिमांड करना

इमोशनली इम्मैच्योर लोग हमेशा अटेंशन की डिमांड में रहते हैं। वो हमेशा ऐसी चीजें करते रहेंगे, जिससे उन्हें लोगों की अटेंशन मिलती रहे। ऐसे लोग अटेंशन पाने के लिए खुद को कमजोर और बेचारा दिखाने की कोशिश भी करते हैं।

इमोशंस कंट्रोल न कर पाना

जो व्यक्ति इमोशली मैच्योर नहीं होगा उसके लिए अपनी भावनाओं को कंट्रोल करना काफी मुश्किल होगा। जैसे कि छोटी-छोटी बातों पर रोने लगना या चिल्लाने लगना। हर बात पर गुस्सा आ जाना और बोलने से पहले न सोचना।

दूसरों में गलतियां निकालना

भावनात्मक रूप से इम्मैच्योर व्यक्ति हमेशा दूसरों में गलतियां निकालने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोग कभी भी अपनी गलती नहीं मानते हैं और अपनी भावनाओं के लिए भी दूसरों को वजह ठहराते हैं।

कमिटमेंट न रख पाना

इमोशली इम्मैच्योर व्यक्ति कभी भी अपनी कमिटमेंट पूरी नहीं कर पाते हैं। इनके लिए दूसरों की भावनाएं समझ पाना काफी मुश्किल होता है। ऐसे लोग हमेशा अपनी बात से मुकर जाते हैं और कमिटमेंट से बचने की कोशिश करते हैं।

दूसरों की भावनाओं को नजरअंदाज करना

जिन लोगों में इमोशल तौर पर इम्मैच्योरिटी होती है, वो हमेशा दूसरों की भावनाओं को नजरअंदाज करने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोग हमेशा अपनी भावनाओं की परवाह करते हैं और अपनी गलती की वजह भी दूसरों को ही बताते हैं।

इमोशनली इम्मैच्योर व्यक्ति को कैसे डील करें- How To Deal With Emotionally Immature Person

अगर आपके किसी करीबी को अपने इमोशंस कंट्रोल करने में मुश्किल होती है, तो उन्हें मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से संपर्क कराएं। सही काउंसलिंग के जरिए उन्हें अपने इमोशंस कंट्रोल करने में मदद मिल पाएगी। इमोशनली इम्मैच्योर व्यक्ति से हेल्दी बाउंड्री मेंटेन करके रखें। साथ ही शांति से बात करके भी इमोशनली इम्मैच्योर व्यक्ति को संभाला जा सकता है।

post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.