महिलाओं को पुरुषों की तुलना में ज्यादा सर्दी क्यों लगती है? जानें 3 साइंटिफिक कारण

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में ज्यादा सर्दी क्यों लगती है? जानें 3 साइंटिफिक कारण

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में ज्यादा सर्दी क्यों लगती है? जानें 3 साइंटिफिक कारण

अक्सर आपने यह महसूस किया होगा कि महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक सर्दी लगती है। आज डॉक्टर से जानेंगे इसके पीछे के कारण

हर व्यक्ति के शरीर की अपनी-अपनी प्रकृति है, कुछ लोगों को सर्दियां अधिक महसूस होती है। जबकि, कुछ लोगों को सर्दियों में ठंड का एहसास कम होता है। लेकिन, आपने अक्सर एक बात नोटिस की होगी कि अधिकतर महिलाओं को पुरुषों की तुलना में सर्दी अधिक लगती है। इसके पीछे कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। इस विषय पर लोग बहस भी करते हैं। लेकिन, एम्स की डॉक्टर बताती हैं कि यह बात सही है कि महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक सर्दी लगती है। डॉक्टर प्रियंका सेहरावत ने इस विषय पर एक पोस्ट इंस्टाग्राम पर पोस्ट की है। आगे जानते हैं उन तीन साइंटिफिक कारणों को जिनकी वजह से महिलाओं को पुरुषों की अपेक्षा अधिक सर्दी लगती है।

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में ज्यादा सर्दी क्यों लगती है? – Why Women Feel More Colder As A Compared To Man Doctor Explains In Hindi

मेटाबॉलिक रेट का कम होना

महिलाओं का मेटाबॉलिक रेट पुरुषों की तुलना में कम होता है। महिलाओं और पुरुषों का वेट समान होने के बावजूद उनके शरीर में गर्माहट पैदा करने वाली मांसिपेशियां कम होती है। महिलाओं के शरीर की स्किन और मसल्स के बीच में चर्बी अधिक होती है, जो उनके शरीर को ठंड़ा रखने की एक वजह हो सकती है। महिलाओं के बॉडी का मेटाबॉलिक रेट पुरुषों की तुलना में कम होने की वजह से उनके शरीर में गर्मी पैदा करने की क्षमता कम हो जाती है। इस वजह से महिलाओं को ज्यादा ठंड लगती है।

हार्मोन

महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर का अधिक महत्व होता है। डॉक्टर के अनुसार एस्ट्रोजन शरीर की रक्त वाहिकाओं को फैलाने में सहायक होता है। वहीं प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन स्किन के कसाव के लिए जिम्मेदार होता है। इससे शरीर की अंदरूनी भागों को गर्म रखने के लिए खून की सप्लाई में कमी आ सकती है। महिलाओं को ठंड लगने के लिए यह कारक भी जिम्मेदार हो सकता है।

पीरियड्स साइकिल

पीरियड्स साइकिल से महिलाओं के शरीर का हार्मोन में बदलाव होता है। हार्मोन में बदलाव की वजह से हाथ, पैर और कान में अधिक ठंडी लग सकती है। पीरियड्स साइकिल की वजह से महिलाओं के अंग प्रभावित होते हैं। ऐसे में उनके शरीर में पुरुषों की तुलना में कम गर्मी पैदा हो पाती है।

post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.